12 दिसंबर को बिग बैश लीग में सिडनी थंडर (Sydney Thunder) का मुकाबला मैक्सवेल की अगुवाई वाले मेलबर्न स्टार्स से (Melbourne Stars) हुआ। यह थंडर्स के लिए एक घरेलू खेल था और सिडनी शोडाउन स्टेडियम में आयोजित किया गया था। ग्लेन मैक्सवेल ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया।

उनकी पसंद सही साबित हुई क्योंकि स्टार्स एकतरफा जीत हासिल करने में सफल रहे। साझेदारी के बीच में खेल के कमेंट्री पैनल ने स्पिन-गेंदबाजी और कैरम गेंदों की कला पर चर्चा करनी शुरू कर दी। ईसा गुहा (Isha Guha)  और एडम गिलक्रिस्ट (Adam Gilchridt) ने अपने साथी कमेंटेटर के रूप में ध्यान से सुना कि कैरम-गेंद एक गेंदबाजी करने में क्या मदद करता है।

गुहा की ओर इशारा करते हुए, उन्हें यह कहा, “स्पिन गेंदबाजी कोचिंग क्लीनिक जहां मुख्य कोच ने कहा है, आप सभी जानते हैं … आप बस मुझे अपने गेंदबाज हाथ दिखाओ। सबसे लंबी मध्यमा उंगली वाले लड़के या बच्चे की पहचान संभावित कैरम-गेंदबाज के रूप में हो जाएगी।”

ठीक उसी तरह जैसे आप पढ़ते समय मध्यमा शब्द की गलत व्याख्या कर रहे हैं, ईसा गुहा ने भी ऐसा ही किया। इसके बाद साथी कमेंटेटर को उनकी कोहनी पर थपथपाते हुए, ईसा गुहा ने पूछा, “तुम्हारा कितना बड़ा है ??”

अब यहां से बवाल शुरू हो गया। कुछ लोगों के लिए यह मजाकिया था। कुछ लोगों के लिए यह अश्लीलता थी । वैसे यह अश्लीलता ही थी क्योंकि यही सॉफ्ट सेक्सुअलिटी अगर कोई लड़का दिखा तो उसको भला बुरा बोलकर नष्ट करने की कोशिश की जाती।

अगर उदाहरण चाहिए तो क्रिस गेल का मामला ले लीजिए। “मुस्कुराओ मत बेबी!”, इतना कहने के लिए क्रिस गेल को टीम से बाहर कर दिया गया था। एक पत्रकार को इतना कहने के लिए क्रिस गेल को यह कीमत चुकानी पड़ी। सोचिए अगर एक पुरूष “तुम्हारा कितना बड़ा है” पूछ लेता तो क्या बवाल हो जाता।
सॉफ्ट सेक्सुअलिटी को फैलाने वालों से बचने की आवश्यकता है। प्लास्टिक सेक्सुअलिटी के नाम पर जो अश्लीलता का नाच हो रहा है, वह कहीं से भी स्वीकार्य नहीं है, तब तो बिलकुल भी नहीं, जब मामला निजी ना हो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here