मध्यप्रदेश पुलिस को सोमवार को एक कार्रवाई के दौरान एक बड़ी कामयाबी हाथ लगी। पुलिस ने एक बड़े से”क्स रै’केट का पर्दाफाश किया है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार सूबे के सीहोर के बस स्टैंड के पास एक रै’केट पकड़ा गया है। लेकिन हैरानी की बात यह है कि यह रैके’ट शिवसेना की महिला नेता के मकान में चलाया जा रहा था

पुलिस ने मौके से रेड के दौरान 4 लड़कि’यां को और 3 कस्टमर, ड्राइवर को पकड़ा है। इसके आलावा इस रैके’ट को संचालित कर रही महिला और एक महिला मैनेजर को भी हिरा’सत में लिया गया है।

योगाचार्य निकली रैकेट की सरगना
खबरों के अनुसार सभी लड़कियां राजधानी भोपाल की बताई जा रही हैं। देर रात मकान पर मारी रेड के दौरान पुलिस ने घर के तीन कमरों में टीवी, न’शे और अय्या’शी के सारे इंतजाम पाए।

बता दें कि सीहोर में तत्कालीन अपर कलेक्टर द्वारा रै”केट की सरगना को नेहरू युवा केंद्र के कार्यक्रम में योगाचार्य के रूप में सम्मानित किया गया था। पकड़ी गई सरगना का नाम है अनुपमा तिवारी।

अनुपमा के सोशल मीडिया प्रोफाइल के अनुसार वो एक समाज-सेवी है। उसने खुद को शिव-सेना की महिला प्रदेश प्रमुख लिखा हुआ है। उसे अब तक कई मंचों से कई तरह के सम्मान मिल चुके है।

इतना ही नहीं शिवसेना के टिकट पर अनुपमा ने साल 2015 में नगर पालिका अध्यक्ष का चुनाव भी लड़ा था, जिसमें उसे करा”री हार का सामना करना पड़ा था, अनुपमा को सिर्फ 694 मत ही हासिल हुए थे।

मध्यप्रदेश शिवसेना गोजन कल्याण संघ में महिला नेता प्रदेशाध्यक्ष के पद पर काम कर चुकी है. लोगों को अय्याशी कराने वाली सरगना श’राब’बंदी पर भी अभियान चलाती है। इसके आलावा वो साहित्य साधना मंच से भी जुड़ी हुई है।

अनुपमा खुद को एक पत्रकार भी बताती है. यानि एक चेहरा और छह किरदार निभा रही अनुपमा ने 8 नवंबर 2017 के एक कार्यक्रम में बड़ी-बड़ी बातें कहीं थी।

सूबे में बच्चियां सुरक्षित नहीं- सरगना का पुराना बयान
उन्होंने कहा था कि सूबे में आज महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं. छोटी बच्चियां वह’शी दरिं’दों का शिका’र बन रही है। रेड के दौरान पकड़ी गई लड़’कियां खबरों के अनुसार भोपाल के बैरागढ़ से बुलाई गई थी।

इन लड़कियों को महिला मैनेजर इंदुलता द्वारा मकान पर ले जाया जाता है। इसके बाद हर कस्टमर से 500 रुपए वसूल कर उन्हें लड़कियां दी जाती थी। अनुपमा मूल तौर पर होशंगाबाद की रहने वाली है जबकि सीहोर में उनका ससुराल है।

अनुपमा तीन महीने पहले ही इंदौर से डेढ़ साल बाद वापस आई थी। 2018 में उनके पति का नि’ध’न हो गया था। वहीं एसपी मयंक अवस्थी ने बताया कि अनुपमा तिवारी के घर पर दे’ह व्यापार का रैकेट पकड़ा गया है। मौके से पुलिस ने 28 हजार 710 रुपए और दो कारें जब्त की है। सभी पर केस दर्ज कर लिए गए है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here