यूपी के मुजफ्फरनगर में बड़ा ही हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। जहां एक साजिश के तहत हजारों मुस्लिमों को वोट देने से वंचित किया। इन सभी को मृत घोषित कर वोट देने से रोक दिया। इस मामले के सामने आने के बाद अब लोगों में गुस्सा है।

इस बारे में जमीअत उलमा के प्रदेश सेक्रेटरी कारी जाकिर हुसैन कासमी ने जिला अधिकारी चंद्रभूषण सिंह से मुलाकात कर चिंता जताई।

इस दौरान उन्होने कहा कि जमीअत उलमा समस्त सामाजिक कार्य में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेती है इसको मद्देनजर रखकर 1 नवंबर से 30 नवंबर तक जो वोट बनवाने काटने और करेक्शन कराने का कार्य चल रहा है।

हुसैन ने कहा है कि जमीयत मतदाता जागरूकता अभियान में पूरे प्रदेश भर में सहयोग कर रहे हैं। विभिन्न स्थानों पर वोट बनवाने के दौरान कुछ ऐसे तथ्य सामने आए हैं कि किसी व्यक्ति विशेष द्वारा सैकड़ों लोगों के बारे में झूठी आख्या दी गई है कि लोग शिफ्ट हो गए हैं या मिसिंग है या मृ’त्यु हो गई है।

उन्होने बताया कि मुजफ्फरनगर के आजाद हाई स्कूल की भाग संख्या 29 पर सलमान हैदर नामक व्यक्ति ने 219 लोगों के बारे में झूठी आख्या दी और इन 219 लोगों के बारे में बोला कि इन्होंने शिफ्ट कर लिया है कुछ मिसिंग है और कुछ मर चुके हैं।

हालांकि  जमीयत कार्यकर्ताओं ने बीएलओ को साथ लेकर जब संबंधित क्षेत्रों में सर्वे किया तो उनमें से ज्यादातर लोगों ने अपने घर पर उपस्थित मिले और और जिन्हें मृत्यु दर्शाया गया था उनमें से ज्यादातर जीवित मिले। किसी व्यक्ति विशेष द्वारा बड़ी संख्या में लोगों के बारे में आख्या देना कहाँ तक उचित है यह जांच का विषय है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here